हरियाणा को मिला सर्वश्रेष्ठ पशुपालन राज्य पुरस्कार -2024

0
11

एफएमडी़ +एचएस का दोहरा टीकाकरण करने वाला देश का एकमात्र राज्य है हरियाणा

खबर खास, चंडीगढ़ :

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण तथा पशुपालन एवं डेयरी मंत्री कंवर पाल ने कहा कि हरियाणा की पशुपालन के क्षेत्र में भी पूरे देश में अलग पहचान है। राज्य सरकार की नीतियों पर उस समय मुहर लग गई जब हरियाणा को नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्रियों द्वारा प्रदेश को “सर्वश्रेष्ठ पशुपालन राज्य पुरस्कार” से नवाज़ा गया। इस मौके पर केन्द्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री शिवराज सिंह चौहान, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे उपस्थित थे। हरियाणा की ओर से विभाग के महानिदेशक डॉ. एलसी रंगा ने यह पुरस्कार प्राप्त किया।

उन्होंने बताया कि हरियाणा का पशुपालन एवं डेयरी विभाग अपने 2929 संस्थानों के सुव्यवस्थित नेटवर्क के माध्यम से राज्य की 71.26 लाख की पशुधन आबादी को गुणवत्तापूर्ण पशुचिकित्सा, स्वास्थ्य देखभाल, रोग निदान और प्रजनन सेवाएं प्रदान कर रहा है। इसके अतिरिक्त विभाग द्वारा 70 मोबाईल पशुचिकित्सा इकाइयां भी चलाई जा रहीं हैं, जो पशुपालकों को उनके घर-द्वार पशु चिकित्सा सेवाएं प्रदान कर रहीं हैं। यही नहीं इसके लिए एक टोल फ्री नंबर 1962 कॉल सैंटर भी स्थापित किया गया है। पशु रोगों से निपटने के लिए विभाग द्वारा (एफएमडी़ +एचएस) दोहरा टीकाकरण किया जाता है। ऐसा करने वाला हरियाणा देश का एकमात्र राज्य है।

इसके अलावा , ब्रूसेलोसिस, लम्पी त्वचा रोग, पीपीआर, क्लासिकल स्वाईन फीवर, ईटीवी आदि टीकाकरण कार्यक्रमों को नियमित रूप से लागू कर रहा है। विभाग राज्य के पशुधन के अनुवांशिक सुधार हेतु भ्रूण स्थानांतरण तकनीक-इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (ईटीटी-आईवीएफ) तकनीक भी लागू कर रहा है।

पशुपालन मंत्री ने बताया कि विभाग द्वारा कृत्रिम गर्भाधान तकनीक का भी प्रयोग किया जा रहा है, जिसके अंतर्गत विभागीय योजना ”आईएमडीपी-सीडीआईसी“ के तहत चिन्हित उच्च गुणवत्ता वाले पशुओं के बछड़ों का पालन-पोषण विभाग के वीर्य केन्द्र पर किया जाता है और इनके वीर्य को सम्पूर्ण प्रदेश में उपलब्ध करवाया जाता है, जिससे पशुओं का अनुवांशिक उन्नयन होता है।

कंवर पाल ने हरियाणा को दुधारू-राज्य बताते हुए कहा कि प्रदेश के पशुपालन एवं डेयरी विभाग द्वारा प्रदान की जा रही इन सभी गुणवत्तापूर्ण सेवाओं के कारण राज्य में दूध उत्पादन बढ़कर 119.65 लाख लीटर हो गया है और प्रति व्यक्ति प्रतिदिन दूध की उपलब्धता भी राष्ट्रीय औसत 459 ग्राम के मुकाबले 1098 ग्राम हो गई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here