Health Update : मीठा नहीं…अब नमकीन चीजें खाने से भी हो रहा मधुमेह

0
1157

खबर खास, चंडीगढ़:

कोई दौर था कि मीठा खाने से लोग इस लिए परहेज़ करते थे कि कहीं शूगर न हो जाए। ये बीमारी ही ऐसी है कि मीठे से दूरी ही बचा सकती है या फिर वो सारी कड़वी चीज़ें जो खाने से पहले लोक मुंह नाक सिंकोड़ लें, लेकिन अब तो अध्यन सामने आ रहा है वह भी कई लोगों के गले नहीं उतरेगा। ताजा रिपोर्ट आ रही है कि अब नमकीन खाने से भी शूगर के मरीज़ बढ़ रहे हैं।

एक जानकारी के मुताबिक उत्तर भारत के डेढ़ करोड़ लोग शूगर से पीड़त हैं। यानि कि पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर में ये बीमारी लगातार पैर पसार रही है। शुगर के मरीज़ों को कई बीमारियां भी लग रहीं हैं। इनमें आंख, किडनी, दिल, नसें, हड्डियां शामिल हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक लोग व्यायाम नहीं करते और खा-खा कर शरीर को शुगर से पीड़त कर रहे हैं। उधर, चंडीगढ़ स्थित पीजीआई ने भी हैरान करने वाला अध्यन किया है। इसकी माने तो सिटी ब्यूटीफुल के लोगों में तेजी शूगर बढ़ने का कारण मोटापा है। लोग प्रोसैसड फूड खाकर कार्बोहाइड्रेटस बढ़ा रहे हैं और शूगर की चपेट में आ रहे हैं।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ…पीजीआई के एंडोक्राइनोलॉजी विभाग के विशेषज्ञ डॉ.आशु रस्तोगी का कहना है कि लोग यही मानते हैं कि उन्हें चीनी खाने से डायबीटिज रोग हो रहा है। वह चीनी को छोड़कर बाकी अन्य चीजों का अंधाधुंध सेवन करते हैं। इनमें बटर चिकन, रोटियां, फ्रेंच फ्राइज भी शामिल है। इससे उनका शुगर लेवल बढ़ रहा है। इन चीजों में कार्बोहाइड्रेट होता है। चीनी खाने से शुगर नहीं होती बल्कि अत्यधिक चीनी और कार्बोहाइड्रेट का सेवन शरीर को शुगर की बीमारी दे देता है।

बढ़ रहा है शहर के लोगों में मोटापा
डॉ.आशु रस्तोगी ने कहा कि पीजीआई के अध्यन के मुताबिक चंडीगढ़ में लोग मोटापे से पीड़त हैं। एक दश्क पहले हुए अध्ययन की माने तो शहर के 35 प्रतिशत लोग मोटापे से ग्रस्त थे, लेकिन ताजा अध्ययन के मुताबिक शहर की 41 प्रतिशत महिलाऐं थुलथुली यानि कि गंभीर मोटापे से पीड़त हैं। महिलाएं व्यायाम से गुरेज करती हैं। शहर की 13 प्रतिशत आबादी शूगर से पीड़त है जबकि 17 प्रतिशत लोग डायबीटिक होने के किनारे पर यानि कि प्री डायबीटिक हैं। कुल मिलाकर चंडीगढ़ के पौने चार लाख लोग डायबीटिक और प्री-डाइबीटिक हैं। डॉ. आशु रस्तोगी के मुताबिक शहर की महिलाओं का कहना है कि वह दिन भर घर के काम करती रहती हैं। इसलिए उनका व्यायाम भी अपने आप होता है जबकि घर के कामों से शरीर का शुगर लेवल नियंत्रित नहीं होता। इसके लिए दिन में चालीस मिनट का व्यायाम, सैर, साइक्लिंग या डांस करना जरूरी है। 10 मिनट की कसरत या सैर से पसीना जरूर आना चाहिए।

डॉ.आशु रस्तोगी का कहना है कि चंडीगढ़ के प्रत्येक सेक्टर में पार्क बना हुआ है। सेक्टर के लोगों को पार्क में जाकर रोज सैर करनी चाहिए परंतु अध्ययन कहता है कि शहर के महज 10 से 12 प्रतिशत लोग ही व्यायाम करते हैं। 85 प्रतिशत शहरवासी कोई व्यायाम नहीं करते। ऐसा करने की वजह से लोग शुगर के शिकार बन रहे हैं।

ये बरतें सावधानियां, शूगर रहेगी कंट्रोल में…
1.दिन में 45 मिनट रोजाना व्यायाम/सैर करें।
2.फलों के जूस के सेवन से बचें, फल खाएं।
3. शराब न पीएं, एक ग्राम शराब में नौ कैलोरी होती हैं, 60 ग्राम शराब में पांच से आठ रसगुल्लों के सामान चीनी होती है।
4. एक दिन में 20 ग्राम से ज्यादा चीनी का सेवन न करें।
5.कैल्शियम, विटामिन डी की मात्रा बढ़ाने के लिए दूध, दही, पनीर खाएं।
6. शुगर मरीज दिन में 1200 कैलोरी देने वाला खाना खाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here